सर्दी में उगने वाली मुनाफे वाली सब्जियां | October Me Konsi Sabji Lagaye

किसान भाइयों अगर आपके पास भी 2 बीधा जमीन है तो आप भी सब्जियों की खेती करके अच्छी कमाई कर सकते है सब्जी की खेती सर्दी वह गर्मी दोनों मौसम में की जाती है में आपको सर्दी के मौसम में उगाई जाने वाली सभी सब्जियों की खेती के बारे में बताहूगा जिसे पढ़कर ओर इन खेती को करके अच्छी कमाई कर सकते है सब्जी की खेती में कमाई के साथ साथ मेहनत की भी बहुत आवश्यक होती है और बाजार में भी अच्छे भाव मिल जाते है क्यो की साब्जियो की खपत बहुत है मेहनत अधिक होने के कारण हर कोई किसान इसे लगाना नही चाहता तो आइए सर्दी के मौसम की फसल ( October Me Konsi Sabji Lagaye ) के बारे में जानकारी लेते है

सर्दियों की सब्जियों के नाम

किसान भाइयों सर्दियों के मौसम में बहुत सी सब्जियां उगाई आती है जिसमे से कुछ के नाम ये है:- हरी मिर्च, गाजर, मूली, धनिया, आलू, पालक, मटर, प्याज, शिमला मिर्च, बंद गोभी, साग आदि

October Me Konsi Sabji Lagaye

1. हरि मिर्च

किसान भाइयों हरि मिर्च की खेती से आप अच्छी आय प्राप्त कर सकते है यह खेती 9 से 11 माह की होती है हरी मिर्च की खेती के लिए पनीरी तैयार की जाती है जिसको आप जून से जुलाई में लगा सकते है इसके बाद अक्टूबर से नवम्बर में लगा सकते है
हरि मिर्च की खेती में आपको 250 से लेकर 300 क्विटल प्रति एकड़ उत्पादन प्राप्त होता है मिर्च की खेती में आपको रोग वह खरपतवार का विशेष धियान देना होगा क्यो की दोनों के कारण फसल के उत्पादन में कमी आ जायेगी इसके लिए खरपतवार को शुरू में 20 से 25 दिन में निकाले उसके बाद जब भी खरपतवार हो जाये उसके हिसाब से निकाले, वह रोगों का भी समय समय पर धियान रखे वह रोग नियंत्रण करते रहे।

जरूर पढ़ें : हरी मिर्च की खेती से करोड़पति कैसे बने

2. गाजर

किसान भाइयों गाजर की नही बहुत अच्छी खेती है गाजर बाजार में बहुत अधिक बिकती है वह कुछ दिन खराब भी नही होती जिससे दूर बाजार में पहुचाने में कोई परेशानी नही होती
गाजर बाजार में आसानी से बिक जाती है क्यो की गाजर घर पर सब्जी बनाने के काम आता है उसके अलावा गाजर से जूस निकाल सकते है गाजर से हम गाजर पाक बना सकते है इस तरह के कई कामो में प्रयोग की जाती हैं

गाजर की खेती हर किसान कर सकता है इसकी खेती के लिए आपको मुलायम मिट्टी की आवश्यकता पड़ती हैं या बेड बनाकर गाजर लगाई जाती है जिससे गाजर की जड़े मोटी वह लम्बाई में अधिक होती है जिससे वजन भी ज्यादा आएगा वह इनकम भी अधिक होगी

गाजर की खेती की जल्दी बुबाई अगस्त से सितम्बर में करते है वह अक्टूबर- नवम्बर तक बुवाई चलती है ओर 100 से 110 दिन में तैयार हो जाती है इसकी औसत पैदावार 250 से 300 क्विटल प्रति एकड़ के हिसाब से होती है। आपको October Me Konsi Sabji Lagaye इसमें यह सब्जी जरूर लगानी चाहिए।

जरूर पढ़ें : केसर की खेती कैसे की जाती है

3. मूली की खेती

मूली की खेती कम समय मे तैयार होने वाली खेती है मूली को हर कोई बड़े चाव से सलाद के रूप में खाते है इसकी सब्जियां बनाई जाती है वह अचार भी बना लेते है मूली खाने से बहुत फायदे भी है
यह बहुत अच्छी खेती है जिसकी अगेती खेती करके अच्छे पेसे कमा सकते हो मूली की अलग अलग किस्में होती है कुछ किस्मो को अगेती उगाई जाती है और कुछ किस्मो को लेट उगाई जाती है
इसमे बहुत सी किस्मे है जैसे जापानी सफेद, पुसा देशी, पूसा चेतकी, पंजाब सफेद आदि किस्मे है जिसकी बुवाई की जाती है मूली की खेती ठंड के मौसम में अधिक की जाती है मूली की खेती में 200 से 250 क्विटल तक पैदावार की जा सकती है

इसकी खेती में हमे खरपतवार वह रोगों पर भी विशेष धियान देना होता है क्यो की अगर हम समय समय पर खरपतवार वह रोग का नियंत्रण नही करेंगे तो मूली ज्यादा बढ़वार नही कर पायेगी वह उपज में कमी देखने को मिलेगी साथ में मूली की लंबाई वह मोटाई अच्छी बढवार करवाने के लिए नरम मिट्टी में या बेड बनाकर उसपर इसकी बुवाई करनी चाहिए जिससे पानी से गलन समस्या भी नही आएगी

जरूर पढ़ें : जैविक खाद बनाने की विधि क्या है?

4. धनिया की खेती

किसान भाइयो धनिया की खेती मसालो कि खेती है जिसको अनेक प्रकार की सब्जियां में डाला जाता है वह इसके हरे पते भी सब्जियों में सुगन्द के लिए डाला जाता है धनिया को बीज बनाकर भी बेच सकते है

इसकी खेती अगर आप सर्दियों के मौसम में करना चाहते हो तो अक्टूबर नवम्बर में की जाती है वह इसकी बहुत सी वेरायटी है जिसका आप उपयोग कर सकते हो जिसमें से आपको कुछ का नाम बताता हूं हिसार सुगंध, पंजाब -cc, पंत हरितमा, आरसीआर435, गुजरात धनिया आदि धनिया की वेरायटी है

धनिया की खेती की बुबाई करने के 10 से 12 दिन में बीच अकुंरण होता है वह जब तक बीज अकुंरण ना हो तक तक मिट्टी में नमी होनी आवश्यक है उसके बाद अगर आप सिचाई करे तो 4 से 5 दिन के अंतराल पर् वह बाकी मिट्टी की नमी के हिसाब से आप सिचाई करते रहे

अच्छी किस्म का धनिया 3 से 4 बाड़ दे देता है वह इसमे फूल भी लेट आते है उसके बाद आपको बीज पकाकर भी दे देता है धनिया की खेती 45 दिन में तैयार हो जाती है।

जरूर पढ़ें : ग्वार की खेती कैसे करें

5. आलू की खेती

आलू की खेती से आप अच्छी कमाई कर सकते हो इस खेती में मेहनत भी अन्य सब्जियों के बजाए कम लगती है जिससे इसमे खर्च भी कम आता है वज उत्पादन अच्छा मिल जाता है क्यो की आलू को घर के किचन के अलावा और भी बहुत काम मे लेते है जैसे कि बड़ी बड़ी कंपनियों में काम लिया जाता है जिससे चिप्स वह अन्य प्रकार के पैकेज तैयार किये जाते है इसके अलावा होटलों में काम लिया जाता है जिस कारण आलू की मांग साल भर बनी रहती है जिसके कारण आप भी अच्छी इनकम प्राप्त कर सकते हो

आलू की खेती करना बहुत आसान है इसके लिए आपको बेड तैयार करके मशीन से रोपाई कर देंगे उसके बाद पानी लगा देंगे वह समय समय पर रोग नियंत्रित का उपयोग करते रहे अगर हम आलू की खेती के समय की बात करे तो आलू की खेती 100 से 125 दिन की होती है जो कि आपको 250 से 280 क्विटल तक उत्पादन दे देता है

जरूर पढ़ें : ग्वार की खेती कैसे करें सारी जानकारी

6. पालक की खेती

पालक की ज्यादातर खेती भारत के उत्तरी भाग में होती है पालक का सही समय सितम्बर से अक्टूबर माना जाता है पालक की खेती हम किसी भी मिटी में आसानी से कर सकते है पालक की बुवाई के लिए अच्छी किस्म का बीज होना चाहिये जिससे उपज अच्छी हो वह इसकी खेती के लिए पालक का बीज एक एकड़ में 5 से 6 किलोग्राम की आवश्यकता पड़ती है

पालक की खेती में से खरपतवार समय समय पर निकाल से जिससे अच्छे पेसे मिलेंगे और पालक की पहली कटाई आप 3 से 4 सप्ताह में बाद कर सकते हो ओर उसके बाद आप 12 से 15 दिन के अन्तराल पर इसकी कटाई कर सकते हो इसको समय समय पर पानी जरूर देते रहे साथ मे रोगों का भी धयान रखना जरूरी है इसकी उपज 12 टन प्रति एकड़ होती है अगर आपको भी पालक की खेती करनी है तो आप अधिक जानकरी के लिए यूटयूब पर वीडियो देखें या कर्षि अधिकारी से बात करके जानकारी प्राप्त करे

जरूर पढ़ें : गर्मी में पालक की खेती कैसे करें?

7. मटर की खेती

किसान भाइयो मटर एक ऐसी फसल है जिसे हर लोग बड़े चाव से खाते है अगर घर पर कोई प्रोग्राम हो या सादी हो तो हम मटर की सब्जी बनाते है इसके अलावा यह छोटी छोटी पेकिंग में बंद होकर भी आती है जो कि तली होती है इस तरह हम देखे तो मटर की बाजार में माग बहुत रहती है अगर आप भी मटर की खेती करोगे तो आपको अच्छी इनकम प्राप्त होगी

इसके लिए आपको मटर की वेरायटी पर विशेष धियान देना होगा क्यो की अगर वेरायटी अच्छी नही होगी तो मटर का उत्पादन कम होगा और अच्छी वेरायटी का बीज काम मे लेगे तो उत्पादन भी अच्छा होगा

मटर की खेती अक्टूबर नवम्बर में बोई जाती है जो कि 60 से 65 दिन में तैयार हो जाती है वह इसकी उपज की बात करे तो प्रति हेक्टेयर इसकी उपज 75 से 80 क्विटल तक आ जाती है मटर की खेती में समय समय पर सिचाई करते रहना चाहिए इसमे ज्यादा पानी की आवश्यकता नही होती

8. प्याज की खेती

प्याज भी अच्छी पैदावार देने वाली फसल है प्याज की खेती करने के लिए पहले नर्सरी तैयार की जाती है जो कि नवम्बर माह में तैयार की जाती है जो कि जनवरी माह तक रोपाई के लिए तैयार हो जाते है

उसके बाद इसे आप खेत मे लगा सकते हो खेत में लगाने के लिए खेत को अच्छी तरह तैयार कर ले तथा मुट्टी को नरम कर ले जिससे प्याज बडा बनकर तैयार हो उसके बाद खेत मे पानी लगा दे वह साम से समय पर पंजीरी खेत मे लगा दे

इसके बाद पहला पानी रोपाई के तुरंत बाद दे वह उसके बाद आप मिट्टी की नमी के अनुसार पानी देते रहे साथ मे खरपतवार पर विशेष धयान रखे जिससे फसल कमजोर नही होगी
प्याज की खेती 120 से 130 दिन की खेती है जब फसल तैयार हो जाती है तो आप इसे खुरपी की सहायता से प्याज को एकत्रित कर सकते हो प्याज की अच्छी उपज 350 से 400 क्विटल प्रति हेक्टेयर होती है

9. शिमला मीर्च

शिमला मिर्च की खेती हम 3 बार कर सकते है जून जुलाई, अगस्त सितंबर, नवम्बर दिसम्बर में कई जाती है इसमे सर्दियों के मौसम में अधिक की जाती है जो कि नवम्बर दिसंबर में की जाती है

शिमला मिर्च बाजार में लेजाने के लिए शुरू में 120 से 130 दिन लग जाते है शिमला मिर्च की औसत उपज 10 से 12 टन प्रति हेक्टेयर होती है

10. गोभी की खेती

पता गोभी की बुवाई नवम्बर से जनवरी तक कि जाति है गोभी की खेती दोमत मिट्टी, काली मिटी में की जाती है इसकी खेती करने के लिए खेत तो तैयार कर ले वह सड़ी गोबर की खाद या कम्पोस्ट खाद को खेत मे मिला दे जिससे फसल अच्छी होती है

गोभी की अलग अलग किस्मे है जिसकी आप बुवाई कर सकते है जिसमे से आपको कुछ के नाम बताता हूं जो अच्छी वेरायटी है माही क्रांति 18, गोल्डन सीड्स, इंदु, एन एस 183, इसके अलावा अगर आपको कोई ओर वेरायटी अच्छी लगती है तो आप उसका भी उपयोग कर सकते हो

गोभी की नर्सरी 20 से 30 दिन में तैयार हों जाती है उसके बाद आप इसकी रोपाई कर सकते हो इसके बाद समय समय पर सिचाई करते रहे वह रोगों से बचाने के लिए समय समय पर स्प्रे कर सकते हो इसमे अलग अलग रोग लगते है जिस तरह का रोग है उसके हिसाब से ही सप्रे करे

अगर हम इसके उत्पादन की बात करे तो इसकी औसत पैदावार 30 से 40 टन प्रति हेक्टेयर होती है फूल गोभी की खेती कम खर्च के साथ कि जा सकती है

जरूर पढ़ें : पुदिना की खेती कैसे करे/ मेंथा की खेती कैसे करे

निष्कर्ष

किसान भाइयों आज में सर्दी में उगने वाली 10 सब्जियां ( October Me Konsi Sabji Lagaye ) के बारे में बताया है कि यह कितनी उपज देती है वह इस समय इसकी बुवाई होती है अगर आप इसमे से किसी की सब्जियो के बारे में विस्तार से जानकारी लेना चाहिए है तो मुझे कॉमेंट कर सकते है या आप हमारी इसी साइट पर जाकर पूरी जानकारी ले सकते है यह साइट आपको कर्षि संबंधित सभी जानकारी देती रहेगी अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसन्द आती है तो आप मुझे सुब्स्क्रिब जरूरत करे धन्यवाद

यहाँ क्लिक करें और जॉइन करें किसान समाधान टेलीग्राम चैनल जहां आपको सारी  खेती से जुड़ी जानकारी समय समय पर मिलेगी।

कुलवंत सिंह भाटी
कुलवंत सिंह भाटी

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम कुलवंत सिंग भाटी है। मैं आपको किसान समाधान ब्लॉग पर खेती, फसलों, कृषि यंत्रो, खाद तथा किसानों के लिए आने वाली योजनाओं से जुड़ी सारी जानकारी शेयर करता हूँ।

Articles: 161

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *